Speech in hindi on education-शिक्षा के महत्व पर भाषण(Importance of education)

By | March 18, 2018

Speech in hindi on education -Importance of education in hindi  

जीवन में शिक्षा के महत्व पर भाषण -1

आदरणीय मान्यवर,सम्मानीय अध्यापकों,अध्यापिकाएं,अभिभावकों और प्यारें सहपाठियों को मेरा सुप्रभात। शिक्षा के महत्व से आज सभी परिचित है। शिक्षा शब्द सुनने में जरूर छोटा लगता है परन्तु उसके चमत्कार को देखकर आज सारा जहाॅ प्रकाशमय है । शिक्षा मात्र किताबी ज्ञान तक ही सीमित नहीं इसका विस्तार अन्नत है।

शिक्षा का जीवन में बहुत महत्व है | शिक्षा के बिना मनुष्य एक असभ्य जानवर के समान है | अक्सर कहाँ जाता है, अपने स्वप्नों को साकार करने के लिए शिक्षा रूपी नॉलेज होना जरुरी है , जिसे कोई चुरा नहीं सकता बस यह तो बढ़ने और अंधकार को दूर करने का कार्य करती है | 

शिक्षा_के माध्यम से ही प्रत्येक देश के नागरिकों को सभ्य और सुसंस्कृत बनाया जाता है,जो राष्ट्र उत्थान में सहायक है | शिक्षा राष्ट्र विकास का एक सशक्त साधन है | शिक्षित व्यक्ति की सोच समाज में अशिक्षित व्यक्ति से बिल्कुल भिन्न होती है। शिक्षित व्यक्ति परिवार,समाज,समुदाय तथा राष्ट्र के प्रति अपने दायित्वों तथा अधिकारों से परिचित होता है ।

शिक्षा मनुष्य के ज्ञान एवं कौशल में वृद्धि करता है। शिक्षा_ही मनुष्य के व्यक्तित्व के गुणों आचार,विचार,शारीरिक,मानसिक,नैतिक और सामाजिक गुणों के विकास में सहायक है।शिक्षा से बच्चों और युवाओं का बहुमुखी विकास होता है, जो आगे चलकर एक विकसित राष्ट्र के सक्रिय और उत्तरदायी नागरिक बनते है और एक सभ्य समाज का निर्माण करते है|

सच ही कहा है दक्षिण अफ्रीका के  पूर्व राष्ट्रपति नेल्सन मंडेलाजी  ने 

“शिक्षा सबसे शक्तिशाली हथियार है, जिसे आप विश्व को बदलने के लिए उपयोग कर सकते है |”

एजुकेशन समाज में अधिक सफल और जीवन की सभी चुनोतियों को कम कर सकती है | एजुकेशन एक महत्वपूर्ण भूमिका अदा करती है | हमारे समुदाय को सामान्य संस्कृति और मूल्यों को विकसित करने के सक्षम बनाती है | इसी की देन से आज हम सामाजिक और आर्थिक रूप से सफल हो सके है | 

पाकिस्तान के मलाला यूसुफजई को तो आप जानते ही होंगे  जिसने लड़कियों को शिक्षित करने पर बल दिया उसका प्रचार-प्रचार किया इसके लिए उसे तालिबान ने हत्या के प्रयास में गोली मार दी परन्तु उसने हार न मानी अपनी 17 वर्ष की उर्म में ही ऐसा कारनामा कर दिखाया और नोबेल पुरस्कार विजेता के रूप में उसे सम्मानित किया गया। सारा विश्व उसके इस_शिक्षा  के महत्व की लड़ाई को देखता रह गया।  

मैं इस भाषण के अंत की ओर हूँ  अंतिम लाइन में यही कहूँगा

बस हम अब वचन ले – जब तक हम शिक्षा के महत्व को नहीं समझेंगे तब तक ये दुनियाँ हमारी कीमत भी नहीं समझेंगी | अब उठ जाओ और अभी से शिक्षा की अलक जगायो |  

मेरे इस भाषण को प्रोग्राम के आयोजकों और सभी श्रोताओं ने बहुत ही शानदार तरीके से अंतिम छन तक सुना उन्हें मेरी तरफ से बहुत-बहुत धन्यवाद् |

Speech in Hindi on education –Importance of education in hindi  

शिक्षा के महत्व पर भाषण -2  

आदरणीय मान्यवर,सम्मानीय अध्यापकों,अभिभावकों और सभी प्यारे मित्रों को मेरा सुप्रभात। आज के आधुनिक और प्रतिस्पर्धी समाज में ज्ञान और कौशल केवल शिक्षा_से ही मिल सकता है । जो जीवन को दुनियाँ के टॉप शिखर पर और कैरियर या व्यवसाय के क्षेत्र में बेहतर प्रदर्शन करने के लिए सक्षम बनाता है |

शिक्षा_से ही सही मानसिकता का जन्म होता है और प्रगति के मार्ग में आ रही बाधाओं को दूर कर सफल होने के लिए वांछनीय गुणों के साथ चरित्र निर्माण में मदद करती है| अक्सर ये अंग्रेजी एक लाइन हम सभी को शिक्षा के महत्व का आभास कराती है|

Education is the key to success -शिक्षा_सफलता की कुंजी है | 

एजुकेशन_जीवन में आने वाली अधिकांश चुनौतियों को कम करने और कैरियर के विकास में बेहतर संभावनाओं और अवसर के द्वार खोलती है।यदि समाज में शिक्षा की सकारात्मक सोच है, तो वैज्ञानिक दृष्टिकोण,मानवीय दृष्टिकोण और सामाजिक गुणों का विकास होगा, समाज में अंधविश्वास एवं रूढि़वादिता को समाप्त करने का अवसर मिलेगा ।

18 मार्च 1990 में गोपाल कृष्ण गोखले जी ने ब्रिटिश  विधान परिषद के समक्ष सर्वप्रथम मुक्त और अनिवार्य प्राथमिक शिक्षा  के प्रावधान का प्रस्ताव रखा था, परन्तु जो स्वार्थो के विरोध के कारण सफल नहीं हो सका परन्तु उनके इस स्वप्न को आज साकार हो गये ।आज सरकार की भी शिक्षा_के प्रति सकारात्मक सोच है और एजुकेशन को निःशुल्क और अनिवार्य कर धन उपलब्ध कर अपने नागरिकों को विवेकपूर्ण दिशा प्रदान कर रही है। शिक्षा_एक मौलिक अधिकार है |सरकार द्वारा 6 से 14 वर्ष के बच्चों को निःशुल्क और अनिवार्य शिक्षा_अधिकार देने के लिए 1 अप्रैल 2010 को शिक्षा का अधिकार अधिनियम भी लागू किया गया है|

इस अधिनियम के अंतर्गत केंन्द्र सरकार 55 प्रतिशत और राज्य सरकार 45 प्रतिशत खर्च कर शिक्षा_को बढ़ावा देने के लिए प्रत्येक 3 किलोमीटर के एरिया में स्कूल स्थापित करेगें । बच्चे देश के भविष्य होते है अतः अभिभावकों को भी अपने बच्चों को एजुकेशन प्रदान कर अपने मूल कर्तव्यों का पालन करना चाहिए। तभी एक पूर्ण विकसित एवं शिक्षित राष्ट्र बनाया जा सकता है ।

किसी भी राष्ट्र का पतन और उत्थान शिक्षा के ही आधार पर खड़ा है| शिक्षा_ही ऐसा माध्यम है जो आंतकवाद को समाप्त कर सकता है साथ ही सही-गलत,उचित-अनुचित,सत्य-असत्य,नैतिक आदि तथ्यों से अवगत कराती है। मैं इस भाषण के अंत की ओर हूँ अंतिम लाइन में यही कहूँगा

शिक्षा_से किसी व्यक्ति के व्यक्तित्व का विकास और एक उज्जवल  राष्ट्र का निर्माण संभव है | 

बस हम अब प्रतिज्ञा ले – हर एक शिक्षित व्यक्ति एक अशिक्षित व्यक्ति को शिक्षा के महत्व को समझाये अब उठ जाओ और अभी से शिक्षा की अलक जगायो | शिक्षा अपनी बाहे फैलाए ऊर्जावान मित्रों का इंतजार कर रही है| 

मेरे इस भाषण को प्रोग्राम के आयोजकों और सभी श्रोताओं ने बहुत ही शानदार तरीके से अंतिम छन तक सुना उन्हें मेरी तरफ से बहुत-बहुत धन्यवाद् |

Incoming Search Terms :-

Importance of education essay in hindi

short Speech about education 

jeevan mein shiksha ka mahatva in hindi

hindi speech on education system

शिक्षा का अधिकार अधिनियम (RTE)-2009 Right to education

Speech on education in hindi pdf 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *